May a good source be with you.

राष्ट्रकवि दिनकर और उनका राष्ट्रवाद

साहित्यिक और सांस्कृतिक रूप से अशिक्षित होते जा रहे समाज को भरमाना मुश्किल नहीं कि दिनकर उसी किस्म के राष्ट्रवादी हैं, जिस तरह के पालतू राष्ट्रवादी बनाने की कोशिश भारतीयों के बीच से यह सरकार कर रही है| यह भी कि वे राष्ट्रवादी हिंसा के भी प्रचारक हैं|