May a good source be with you.

शिवराज सरकार का ‘खुले में शौच से मु्क्त राज्य’ के दावे का सच, शौचालय निर्माण के लिए धरना दे रहीं महिलाएं

महिलाओं का ने कहा, कई गांव में महिलाएँ खुले में शौच करने को मजबूर हैं क्योंकि अब तक नहीं बन पाया शौचालय

एक तरफ मध्यप्रदेश सरकार दावा करती है कि राज्य के ज़्यादातर शहर और गांव खुले में शौच से मुक्त हो चुके हैं, वहीं दूसरी तरफ शौचालय के लिए महिलाओं का धरना कुछ और हकीकत बयां कर रहा है।

जबलपुर ज़िला की बरगी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाला शहपुरा तहसील में महिलाएं सैकड़ों की संख्या में शौचालय निर्माण की मांग को लेकर धरने पर बैठी हैं। इनका साथ देने के लिए कांग्रेस नेता जितेंद्र अवस्थी भी तहसील में धरने पर बैठे हैं।

ईनाडु इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार बरसते पानी में सैकड़ों महिलाएं शहपुरा तहसील के सामने धरने पर बैठी हैं। महिलाओं का आरोप है कि ज़िला प्रशासन ने खुले में शौच मुक्त को लेकर जो भी दावे किए हैं वह पूरी तरह से झूठे हैं।

धरने पर बैठी महिलाओं की मानें तो आज भी बारगी विधानसभा में ऐसे कई गांव हैं जहां शौचालय का निर्माण अब तक नहीं हो पाया है। मजबूरी में उन्हें खुले में शौच करने जाना पड़ता है।

महिलाओं का कहना है कि जब तक शौचालय निर्माण की उनकी मांगें नहीं मान ली जाती हैं तब तक उनका अनिश्चितकालीन धरना चलता रहेगा। प्रशासन के तरफ से अबतक इस धरना के संबंध में कोई बयान सामने नहीं आया है। सरकार का एक नुमाइंदा भी इन महिलाओं की सुध लेने के लिए अब तक नहीं पहुंचा है।

अब आप न्यूज़ सेंट्रल 24x7 को हिंदी में पढ़ सकते हैं।यहाँ क्लिक करें
+