May a good source be with you.

शिव ‘राज’: बीमारी की जांच करने वाली मशीन के आभाव में बीमार पड़े हैं सरकारी अस्पताल

बंद पड़े हैं डायलिसिस, सोनोग्राफी जैसे महत्वपूर्ण जांच मशीन ,लोग शहर जाने को मजबूर

जब मध्यप्रदेश का स्वास्थ्य विभाग खुद ही बीमारियों से जूझ रहा है तो सूबे में मरीजों की अच्छे इलाज की आशा कैसे की जा सकती है। सरकारी अस्पतालों में बुनियादी सुविधाओं का अभाव, ऊपर से डॉक्टर से नर्सेस तक की हड़ताल की वजह से स्वास्थ्य व्यवस्था एकदम से चरमरा गई है।

ज़िलों के सरकारी अस्पतालों का हाल तो और भी बुरा है। जांच के लिए लगी मशीनों का गणित फेल है, आलम ये है कि मरीजों की हालत कुछ और होती है और रिपोर्ट कुछ और देती है। रोगियों को गंभीर हालातों में भी जांच के लिए दूसरे जगह ले जाना पड़ता है।

ईनाडु इंडिया के एक रिपोर्ट के अनुसार उमरिया ज़िला में महीनों से डायलिसिससोनोग्राफी जैसी महत्वपूर्ण मशीनें बंद पड़ी हैं जिसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है।

मशीन नहीं होने के कारण लोगों को मजबूरन इलाज के लिए बड़े शहरों की तरफ रुख करना पड़ता है। इसके अलावा अस्पताल में ओपीडी सहित आपातकालीन सेवाओं की भी हालत बिगड़ी हुई है।

अब आप न्यूज़ सेंट्रल 24x7 को हिंदी में पढ़ सकते हैं।यहाँ क्लिक करें
+